23 नवंबर 2008


1 टिप्पणी:

समयचक्र - महेद्र मिश्रा ने कहा…

कहावत है सिर मुडाते ओले पड़े बांटी थी रेवडी और खा रहे है जूते हा हा