23 नवंबर 2008


4 टिप्‍पणियां:

समयचक्र - महेद्र मिश्रा ने कहा…

बहुत ही सटीक उम्दा व्यंग्य बधाई

गिरीश बिल्लोरे "मुकुल" ने कहा…

sateek kintu main is baat ka dyan rkhunga sach yaqeen keeji dube ji
un netaaon ke hazamat ka mouka hai jo...........?
khair chhodie fir kabhee mil ke bat hogee
girish billore
zonal officer

Mired Mirage ने कहा…

बढ़िया !
घुघूती बासूती

संजय बेंगाणी ने कहा…

बहुत सही काम किया है जी.