6 जून 2008

cartoon


on petrol n gas hike

10 टिप्‍पणियां:

कुश एक खूबसूरत ख्याल ने कहा…

हा हा .. खरी बात

tarushree sharma ने कहा…

हा हा.... सही कहा। हालत तो कुछ ऐसी ही होनी है... या फिर दिल्ली जाकर बस जाना होगा। वहां की सरकार को इंसान के घास खाने की थोड़ी परवाह हो गई लगती है।

pallavi trivedi ने कहा…

bahut sahi ...ab bechaare jaanvaron ko saavdhan ho jana chahiye.

पवन चंदन ने कहा…

मंहगाई ऐसे ही बढ़ती रही
तो कह सकते हैं--
हां एक दिन वो भी आयेगा
जब आदमी घास खायेगा

बाल किशन ने कहा…

:) :) :)
हा हा हा

संजय बेंगाणी ने कहा…

और कोई चारा भी तो नहीं :)

swati ने कहा…

vinodpriy kalpana

Udan Tashtari ने कहा…

:)

मंहगाई एक दिन यह भी करवा ही देगी.

yaksh ने कहा…

हा!हा!हा! बहुत बढिया...

yaksh ने कहा…

हा!हा!हा! बहुत बढिया...