13 मई 2008

cartoon doobeyji


remembering freedom fighters of 1857

3 टिप्‍पणियां:

yaksh ने कहा…

शोले तो पाठ्यक्रम में आ ही गई है। इतिहास की एसी दुर्दशा न हों तो अच्छा है। फिल्म और क्रिकेट का अतिक्रमण बढता जा रहा है। बधाई!

Udan Tashtari ने कहा…

हा हा!! यही सीख रहे हैं आजकल बच्चे.

राजीव रंजन प्रसाद ने कहा…

बिलकुल सच है...बच्चों को स्वतंत्रता क्या है शायद यह भी नहीं पता आज कल तो सेनानी "आउट ऑफ सिलेबस" ही है :)

***राजीव रंजन प्रसाद