2 जून 2009

ऑस्ट्रेलिया में भारतियों पर हमला ..................एक कार्टून


10 टिप्‍पणियां:

संजय बेंगाणी ने कहा…

पड़ोसी को देखने वहाँ तक जाना पड़ता है, यहाँ तो केवल आँसू ही बहाने है ना. प्रिय जरा समझा करो :)

cartoonist anurag ने कहा…

wah doobe ji. maza aa gaya.

राजीव रंजन प्रसाद ने कहा…

सटीक कटाक्ष है। महाराष्ट्र में बिहारी पिटें या ऑस्ट्रेलिया में भारतीय चुप रहना हमारे संस्कार हैं।

satyendra... ने कहा…

बहुत सही कहा भाई, जो सरकार अपने ही देश में भारतीयों की रक्षा नहीं कर सकी, जबकि केंद्र और राज्य दोनों में कांग्रेस सरकार थी, अब आस्ट्रेलिया वालों का क्या उखाड़ लेगी? वहां भी राजनीति हो रही है।

Ganesh Prasad ने कहा…

बहुत खूब कहा दुबे जी ,

लालू, पासवान और नीतिश जी तो बिहार का बीडा उठाये थे अब क्या आस्ट्रेलिया में हुए हादसे के लिए पूरा भारत एक नहीं हो सकता.

यहाँ भी पधारे.
http://eganesh.blogspot.com/

Suresh Chnadra Gupta ने कहा…

अपन तो अपने देश में ही खुश हैं. क्या नहीं है यहाँ? मार खाने के लिए देश के बाहर जाने की क्या जरुरत है? देश में हिन्दुओं की कम पिटाई हो रही क्या?

Ratan Singh Shekhawat ने कहा…

सटीक कटाक्ष !

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi ने कहा…

पड़ौसी से क्या मतलब?

Jayant Chaudhary ने कहा…

Waaah ji.
Ati sundar.

Udan Tashtari ने कहा…

सन्नाट--एकदम सही!!

संजय बंगाणी जी को नमन!! :)