5 फ़रवरी 2009

नर्मदा जयंती पर सभी ब्लॉगर बंधुओं को ......हर नर्मदे


10 टिप्‍पणियां:

गिरीश बिल्लोरे "मुकुल" ने कहा…

नैया मैया डूबे कैसे भैया अपने करें कमाल

Udan Tashtari ने कहा…

ये मस्त चले इस बस्ती में
थोड़ी थोड़ी मस्ती ले लो...
तुम प्रेम से मांगो तो, प्यारे
फिर बीच भँवर कश्ती ले लो....

--नर्मदे हर, नर्मदे हर, नर्मदे हर!!

लाल और बवाल (जुगलबन्दी) ने कहा…

मिश्रा-मुकुल, डूबे, शैली और जबलपुरी सब तरें कमाल
नैया मैया धार संग चली, वजन सम्भालें लाल-बवाल

बेनामी ने कहा…

नर्मदे हर . आर हर महादेव............धार तेज ही चल रही है हा हा हा

विष्णु बैरागी ने कहा…

भले ही परस्‍पर असहमत रहना लेकिन सा‍थ जीना, साथ मरना।
जय नर्मदे मैया।

संजय तिवारी ’संजू’ ने कहा…

हा हा डूबेजी, बहुत बड़िया नौका विहार.

माँ नर्मदा की जय.
नर्मदे हर.

COMMON MAN ने कहा…

baakiion ke liye cruizzzzzzz laa rahe hain kya.

anil shrivastava ने कहा…

badhai ho bahut badiya.lage raho bhaiji

सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी ने कहा…

मिलजुलकर बैठे तो हैं...। बहुत अच्छा लग रहा है जी। खा़मखा़ का आल्हा बनवा दिया।

Dr. Vijay Tiwari "Kislay" ने कहा…

पानी नीरव बहे जब,चले न डगमग नाव.
भैया नैया-नीर बिच, रहता न टकराव